सत्य के मार्ग पे चलते हुए कोई दो ही गलतियाँ कर सकता है; पूरा रास्ता ना तय करना, और इसकी शुरआत ही ना करना.

0
21

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here