जूनून जैसी कोई आग नहीं है, नफरत जैसा कोई दरिंदा नहीं है, मूर्खता जैसी कोई जाल नहीं है, लालच जैसी कोई धार नहीं है.

0
28
गौतम बुद्ध कोट्स 38
गौतम बुद्ध कोट्स 38

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here